About the Video

छोटे शहरों से पढ़ कर अच्छी नौकरी पाने वाली लड़कियों में आज बांदा की प्रतीक्षा पांडे का नाम भी शामिल हो गया है। उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत और लगन से पढ़ाई कर समीक्षा अधिकारी बन जिले का नाम रोशन किया है। आज वह अपनी उम्र की दूसरी लड़कियों के लिए एक प्रेरणा  बन गयी हैं, या फिर कह सकते है हीरो!

मेहनत और लगन से मंजिल होती है हासिल, मिलिए बांदा की प्रतीक्षा से जो इलाहबाद में समीक्षा अधिकारी हैं

हम जब प्रतीक्षा से मिलें, तो उन्होंने मुस्कुरा कर हमें बताया कि पढ़ने का शौक उन्हें बचपन से ही है, “हम 2000 में बांदा आए और तब से यहीं हैं। मैंने अपनी पढ़ाई बांदा से ही की है। मुझे बचपन से ही पढ़ने का शौक रहा है। कोर्स की किताबों के अलावा भी मुझे उपन्यास आदि पढ़ने का बेहद शौक रहा है।” प्रतीक्षा आज बांदा में ही कृषि अधिकारी के रूप में कार्यरत हैं, और जल्द ही समीक्षा अधिकारी के पद को सम्भालने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट जाएंगी।

बुंदेलखंड जैसे पित्रसत्तात्मक समाज में एक लड़की को ऐसी उपलब्धियां हासिल करना कोई आसान बात नहीं है। प्रतीक्षा ये अच्छी तरह से जानती और पहचानती हैं, “जहां तक महिलाओं का नौकरी और पढ़ाई के क्षेत्र में आगे बढ़ने और आने वाली मुसीबतों का सवाल है तो वह तो तभी से शुरू हो जाती हैं जब महिलाएं घर से कदम बाहर रखती हैं।” वे बताती हैं कि उनके परिवार के सहयोग ने एक बहुत बड़ी भूमिका निभायी है। अपने घर-परिवार, दोस्त और ऑफिस के सहकर्मियों ने हर कदम पर उनका मनोबल बढ़ाया है, ये बात भी उन्होंने हमें बताई।

इन उचाईयों को छूने में, प्रतीक्षा अपने पिता को खासकर ज़िम्मेदार मानती हैं। स्वयं एक छोटे कसबे में पले बढ़े, उनके पिता ने हमें बताया कि वे दसवी कक्षा के बाद पढ़ नहीं पाए थे क्योंकि उनके घर वाले उनकी पढ़ाई का खर्चा नहीं दे सके। अपने पैरों पर खड़े होकर, जब उन्होंने शादी रचाई, तभी से उन्होंने मन में ये ठान लिया था कि वे अपने बच्चों की शिक्षा में कोई कमी नहीं आने देंगे।

महत्वकांक्षी प्रतीक्षा का सपना आईएएस बनने का है और अब वह उसके लिए तैयारी करने का मन बना चुकी हैं। इलाहाबाद जाने से पहले, उन्होंने बांदा और अन्य जगहों की युवा पीढ़ी, और ख़ास लड़कियों, के लिए एक सन्देश दिया, “घबराने से नहीं, बल्कि स्थिति का सामना करने से ही हमें अपनी मंजिल मिल सकती हैं।”

 

मिलिए बांदा की लोकल हीरो महत्वकांक्षी प्रतीक्षा से!

छोटे शहरों से पढ़ कर अच्छी नौकरी पाने वाली लड़कियों में आज बांदा की प्रतीक्षा पांडे का नाम भी शामिल हो गया है। उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत और लगन से पढ़ाई कर समीक्षा अधिकारी बन जिले का नाम रोशन किया है। आज वह अपनी उम्र की दूसरी लड़कियों के लिए एक प्रेरणा  बन गयी हैं,(…)

  • सोशियल बज़्ज़ - चेक इट आउट!!

टॉप स्टोरीस

See more

अदिति गुप्ता का “मेंस्ट्रूपीडिए” करता है लड़ियों को पीरियड्स के विषय में जागरूक

भारत में ऐसे बहुत से लोग हैं जो मेंस्ट्रुएशन के साथ जुड़े कलंक को मिटाने का प्रयास कर रहे हैं.  परंतु आज हम एक ऐसी महिला के विषय में बात करने वाले हैं जो महिलाओं को कॉमिक्स के द्वारा उनके शरीर के विषय में शिक्षित करती है. अदिति गुप्ता और तहिं पॉल ने २०१३ में(…)

More

मिलिए बांदा की लोकल हीरो महत्वकांक्षी प्रतीक्षा से!

छोटे शहरों से पढ़ कर अच्छी नौकरी पाने वाली लड़कियों में आज बांदा की प्रतीक्षा पांडे का नाम भी शामिल हो गया है। उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत और लगन से पढ़ाई कर समीक्षा अधिकारी बन जिले का नाम रोशन किया है। आज वह अपनी उम्र की दूसरी लड़कियों के लिए एक प्रेरणा  बन गयी हैं,(…)

More

फ्रांस से आयी बेंजामिन ओबेरॉय भारत को एक बेहतर देश बनाने में जुड़ी हुई हैं

हमने अक्सर दोस्तों और रिश्तेदारों को विदेश जाकर बस्ते हुए देखा है परंतु क्या आपने कभी ऐसे विदेशियों के बारे में सुना है जिन्हें भारत में आकर ही  अपने वास्तविक उद्देश्य का ज्ञात हुआ. फ्रांस की रहने वाली बेंजामिन ओबरॉय 1978  में चाइल्ड साइकोलॉजी में पीएचडी करने भारत आई. भारत में अपने पति से मुलाकात(…)

More

क्यों है खाना बनाना आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए अच्छा

आजकल  खाना बनाने की गतिविधि मानसिक स्वास्थ्य क्लीनिक और थेरेपिस्ट के दफ्तरों में लोगों का इलाज करने में काम आ रही है.  इससे  मानसिक और व्यवहारिक मुश्किलें हल की जा सकती है जैसे  डिप्रेशन, एंग्जाइटी और एडिक्शन. खाना बनाने से  रचनात्मकता  को बढ़ावा मिलता है  जिससे हमारे मन में नए विचार आते हैं. इससे हमें(…)

More

भारत के शिक्षा प्रणाली को बेहतर कर रही हैं नबीला काज़मी

हम सब इस बात को समझते हैं कि भारतीय शिक्षा प्रणाली को बदलाव की जरूरत है.  भारत में अच्छी अध्यापिकाओं की कमी है क्योंकि यह काम ज्यादातर लोगों को आकर्षित नहीं करता. भारत में अध्यापिकाओं  को बहुत कम वेतन दिया जाता है जो  इस तेजी से बदलते समाज में पर्याप्त नहीं है. परंतु ऐसे भी(…)

More

जानिए कैसे फिटनेस को अपने जीवन का हिस्सा बनाकर खुश रहने लगी राशि मल्होत्रा

बहुत लोग हैं जो जिम जाने और स्वस्थ रहने के विचार को कल पर टाल देते हैं.  कभी-कभी स्वस्थ रहने के लिए प्रेरणा मिलना मुश्किल है  परन्तु आज के इस समय में प्रेरणादायक कहानियां ढूंढना बहुत आसान है. यह प्रेरणादायक कहानी है राशि मल्होत्रा की. राशि मल्होत्रा की फिटनेस जर्नी एक दशक पहले शुरू हुई.(…)

More

Share Your Stories:

Discussions

Blogs

Events