About the Video

पूर्णा सिनेमा घरों में ३१ मार्च को रिलीज़ हुई थी. इस फिल्म की बहुत प्रशंसा हो रही है. इसने एक पूरी पीढ़ी को जीवन में कुछ कर दिखने की प्रेरणा मिली है. यह जानकर अच्छा लगता हैं कि बॉलीवुड ने ऐसी फिल्में बनाना शुरू कर दिया हैं जो भारत में बदलाव ला सकती हैं.

जानिए इस फिल्म को देखने के ५ महत्त्वपूर्ण कारण

१. भारत के सामाजिक मुद्दों के विषय में जानने के लिए

अपनी १३ साल कि बेटियों पर शादी करने के लिए दबाव डालना, स्कूल कि अध्यापिकाओं का अपने काम की ओर ध्यान न देना, गांवों में विद्यालयों की स्थिति और पितृसत्ता कुछ इनसे मुद्दे हैं जो भारत को और यहाँ रहते बच्चों को आगे बढ़ने से रोकते है.

 

२. प्रेरित होने के लिए

एक ऐसी लड़की की कहानी बहुत ही प्रेरणा दयाक है जो बड़ी बड़ी चुनौतियों का सामना करके विश्व की सबसे ऊँची चोटी पर चढ़ने का प्रण लेती है .हम एक ऐसे देश में रहते हैं जो अपनी आधी जनसंख्या को इसलिए दंड देता है क्योंकि वह महिलाएं हैं. परंतु पूर्णा ने साबित कर दिया कि मनुष्य के लिंग और उम्र से हम किसी कि सफलता का पता नही लगा सकते. अंत में केवल दृणता कि जीत होती हैं.

 

३. अपने जीवन में मेंटर्स की भूमिका समझने के लिए

पूर्णा का जीवन तब बदला जब उसकी मुलाकात उसके मेंटर से हुई. उन्होंने पूर्णा को अपने अंदर विश्वास जगाने के सभी कारण दिए. उन्होंने उसको सफलता प्राप्त करने के लिए हमेशा प्रेरित किया.

 

४. जीवन में दोस्ती कि अहमियत समझना

गिलम में एक ऐसा सीन हैं जिसमें पूर्णा अपनी सहेली द्वारा लिखा हुआ एक पत्र पढ़ती हैं. उस पत्र का उस पर एक गहरा प्रभाव पड़ता हैं. उस पत्र के पढ़ने के बाद ही वह एवेरेस्ट चढ़ने के निर्णय लेती हैं. दोस्ती से प्यारा रिश्ता और कोई नही हैं. यह दोस्ती मनुष्य को जीवन में सदा आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती हैं.

 

५. जीवन में कुछ रिस्क्स लेने के लिए

 

घर से रॉक क्लाइम्बिंग कि ट्रिप के लिए भाग जाना, मौसम ख़राब होने के बावजूद पहाड़ चढ़ना कुछ ऐसे रिस्क्स हैं जो पूर्णा ने अपने जीवन को सफल बनने के लिए उठाये. जीवन का अर्थ ही रिस्क्स लेना हैं. रिस्क्स लेकर ही हम सफलता की ओर बढ़ सकते हैं.

ऐसी फिल्म बननी हमारे समाज के लिए ज़रूरी हैं क्योंकि यह बेटियों के अधिकार और उनके सपनो के विषय में बात करती हैं.

राहुल बोस की पूर्णा देखने के ५ महत्त्वपूर्ण कारण

पूर्णा सिनेमा घरों में ३१ मार्च को रिलीज़ हुई थी. इस फिल्म की बहुत प्रशंसा हो रही है. इसने एक पूरी पीढ़ी को जीवन में कुछ कर दिखने की प्रेरणा मिली है. यह जानकर अच्छा लगता हैं कि बॉलीवुड ने ऐसी फिल्में बनाना शुरू कर दिया हैं जो भारत में बदलाव ला सकती हैं. जानिए(…)

  • सोशियल बज़्ज़ - चेक इट आउट!!

टॉप स्टोरीस

See more

शहरी स्वंत्र महिला के लिए क्यों नहीं है अब शादी ज़रूरी?

यदि आप मुझसे पूछे, तो मैं आपको शादी न करने के बहुत सारे कारण दे सकती हूँ. और वो इसलिए क्योंकि हम स्वयं को सशक्त बनाना चाहते हैं. कुछ समय पहले, महिलाएँ अपनी आकांशाओं का बलिदान देती थी ताकि वह उस “प्रिंस चार्मिंग” से शादी कर सके जिसका इंतज़ार उन्होंने जीवन भर किया था. परन्तु(…)

More

महिलाओं के लिए स्वस्थ रहना क्यों है अनिवार्य?

महिलाओं ने, सदियों से, अपने स्वास्थ्य को नज़रअंदाज़ किया है. वैसे तोह आज कल की महिलाएँ अपनी सेहत का ध्यान रखने में विश्वास रखती हैं परन्तु ऐसी बहुत सी महिलाएँ हैं जो अपनी सेहत पर ठीक से ध्यान नहीं देती. वह अपनी शक्ति अपने आस पास के लोगों का ख्याल रखने में लगा देती हैं.(…)

More

मिलिए पल्लवी सिंह से जो विदेशियों को हिंदी सिखाती हैं

मुंबई की रहने वे पल्लवी सिंह भारत में रहने वाले विदेशियों को हिंदी सिखाती है. उन्होंने शीदपीपल.टीवी से हिंदी में अपनी रूचि और पढ़ाने की टेक्निक्स के विषय में बात करी. पल्लवी ने इंजीनियरिंग और स्यकॉलॉजि में बैचलर्स करी हुई है. “मेरे पास फ्रेंच भाषा में डिप्लोमा और काउन्सलिंग एंड गाइडेंस में सर्टिफिकेट कोर्स भी(…)

More

राहुल बोस की पूर्णा देखने के ५ महत्त्वपूर्ण कारण

पूर्णा सिनेमा घरों में ३१ मार्च को रिलीज़ हुई थी. इस फिल्म की बहुत प्रशंसा हो रही है. इसने एक पूरी पीढ़ी को जीवन में कुछ कर दिखने की प्रेरणा मिली है. यह जानकर अच्छा लगता हैं कि बॉलीवुड ने ऐसी फिल्में बनाना शुरू कर दिया हैं जो भारत में बदलाव ला सकती हैं. जानिए(…)

More

अकेले फिल्म देखने का अपना ही मज़ा है: शुभ्रा गुप्ता

शीदपीपल.टीवी ने शुभ्रा गुप्ता से अकेले फिल्म देखने जाने के विषय में बात करी.उन्होंने इस ट्रेंड का समर्थन करते हुए कहा,” आप फिल्म अकेले देखते हैं तो आपके और फिल्म के बीच कुछ भी नही होता. मेरे अनुसार यदि महिलाएं स्वयं फिल्में देखने जा सके तो इससे ज़्यादा स्वंत्रता हो ही नही सकती.” अकेले फिल्म(…)

More

वीमेनस राइटर्स फेस्ट: भारतीय महिलाओं को वर्कफोर्स में वापस लाने के सुझाव.

भारतीय महिलाएँ कहाँ गयी हैं? हमने अक्सर यह प्रश्न खुद से पूछा है और इसके कारण जानने की भी कोशिश की है. शीदपीपल.टीवी और वेदिका स्कॉलर्स द्वारा आयोजित वीमेन राइटर्स फेस्ट ने इसी बात पर चर्चा करी. ” हम भारतीय महिलाएँ विश्व जनसँख्या की केवल ८% हैं. हम भारत का जीडीपी तब तक नही बदल(…)

More

Share Your Stories:

Discussions

Blogs

Events