About the Video

शीदपीपल.टीवी ने शुभ्रा गुप्ता से अकेले फिल्म देखने जाने के विषय में बात करी.उन्होंने इस ट्रेंड का समर्थन करते हुए कहा,” आप फिल्म अकेले देखते हैं तो आपके और फिल्म के बीच कुछ भी नही होता. मेरे अनुसार यदि महिलाएं स्वयं फिल्में देखने जा सके तो इससे ज़्यादा स्वंत्रता हो ही नही सकती.”

अकेले फिल्म देखने जाने के फायदों के विषय में जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा,” इससे आप किसी पर मौताज नही हैं. यह भी ज़रूरी नही है की आपके साथ कोई हमेशा हो. आप दूसरों के साथ भी फिल्म देखने जा सकते हैं परंतु अकेले फिल्म को देखने और उसे महसूस करने का एक अलग ही मज़ा है. एक अलग ही कनेक्शन बनता है आपके और फिल्म के बीच में.”

उन्होंने यह भी कहा कि यदि किसी महिला को फिल्म देखने में बहुत आनंद मिलता हो तो उससे किसी और कि प्रतीक्षा नही करनी चाहिए. अब वक्त आ गया है कि आप खुद जाइये, देखिये और उस फिल्म का मज़ा लीजिये.

शीदपीपल.टीवी ने दिल्ली में स्थित अनुपमा कथूरिया से बात करी. इन्होनें २०१५ में कंगना रनौत कि फिल्म क्वीन अकेले देखने का निर्णय लिया.

“मुझे क्वीन देखने का बहुत मन था. मेरी बेटी दिल्ली में नहीं थी. मैं पहले तो फिल्म अकेले देखने से हिचकिचा रही थी पर फिर मुझे किसी ने बताया कि क्वीन में कंगना अकेले अपने हनीमून में पेरिस गयी थी. मैंने सोचा यदि वह पेरिस अकेले जा सकती है तो मैं फिल्म देखने क्यों नही जा सकती. बस, मैं अकेले फिल्म देखने गयी और यह एक बहुत ही आनंदमयी अनुभव रहा.”

गिन्नी मल्होत्रा, जिन्होंने मैरी कॉम अकेले देखी, कहती हैं,

“मैं नहीं चाहती थी कि मैरी कॉम जैसी फिल्म में कोई भी मेरे साथ हो. मैं उस फिल्म के ट्रेलर से बहुत प्रभावित थी. मैं एक दिन कुछ समय निकालकर अकेले ही फिल्म देख आयी. किसी और पर निर्भर रहने से अच्छा है कि हम खुद ही वह सब करें, जो हमें ख़ुशी देता है.”

हम इस नयी सोच को सलाम करते हैं और आशा करते हैं भारत की अनेक महिलाएँ इतनी सशक्त हो जाएँ कि वह इसी प्रकार अपने निर्णय खुद ले सके.

अकेले फिल्म देखने का अपना ही मज़ा है: शुभ्रा गुप्ता

शीदपीपल.टीवी ने शुभ्रा गुप्ता से अकेले फिल्म देखने जाने के विषय में बात करी.उन्होंने इस ट्रेंड का समर्थन करते हुए कहा,” आप फिल्म अकेले देखते हैं तो आपके और फिल्म के बीच कुछ भी नही होता. मेरे अनुसार यदि महिलाएं स्वयं फिल्में देखने जा सके तो इससे ज़्यादा स्वंत्रता हो ही नही सकती.” अकेले फिल्म(…)

About STP Team

o

Posts by STP Team:

अकेले फिल्म देखने का अपना ही मज़ा है: शुभ्रा गुप्ता

शीदपीपल.टीवी ने शुभ्रा गुप्ता से अकेले फिल्म देखने जाने के विषय में बात करी.उन्होंने इस ट्रेंड का समर्थन करते हुए कहा,” आप फिल्म अकेले देखते हैं तो आपके और फिल्म के बीच कुछ भी नही होता. मेरे अनुसार यदि महिलाएं स्वयं फिल्में देखने जा सके तो इससे ज़्यादा स्वंत्रता हो ही नही सकती.” अकेले फिल्म(…)

More

वीमेनस राइटर्स फेस्ट: भारतीय महिलाओं को वर्कफोर्स में वापस लाने के सुझाव.

भारतीय महिलाएँ कहाँ गयी हैं? हमने अक्सर यह प्रश्न खुद से पूछा है और इसके कारण जानने की भी कोशिश की है. शीदपीपल.टीवी और वेदिका स्कॉलर्स द्वारा आयोजित वीमेन राइटर्स फेस्ट ने इसी बात पर चर्चा करी. ” हम भारतीय महिलाएँ विश्व जनसँख्या की केवल ८% हैं. हम भारत का जीडीपी तब तक नही बदल(…)

More

नीना लेखी ने लिखी अपने बिज़नेस के विषय में किताब

नीना लेखी एक इंटरप्रेन्योर तब बनी जब इंटरप्रेन्योर जैसे शब्द फैशन में भी नही थे. नीना ने बैगईट नाम का पहला बैग एंटरप्राइज शुरू किया. बैग्स सौ करने से लेकर, बैग्स पेंट करने तक, नीना सब कुछ खुद करना चाहती थी. नीना लेखी एक इंटरप्रेन्योर तब बनी जब इंटरप्रेन्योर जैसे शब्द फैशन में भी नही(…)

More

“कॉफी विद करण” पर करण को उनकी गलतियों का एहसास कराती दिखाई दी कंगना

कंगना रनौत हाली में कारन जौहर के टॉक शो “कॉफी विद करण” में नज़र आयी जहाँ उन्होनें अपनी बात कहना का और करण जोहर को अपनी गलतियों का एहसास दिलवाने का कोई अवसर नही छोड़ा. कंगना इस शो पर सैफ अली खान के साथ अपनी फिल्म रंगून की प्रमोशन करने आयी थी. उन्होनें करण जोहर(…)

More

जानिए किस प्रकार एक घर सहायक से प्रेरित हुई एक महिला उद्यमी

शगुन सिंह बरुहा अपने घर पर काम करने वाली सहायक  को अपने स्टार्टअप “होमवर्क” के लिए श्रेय देती हैं. होमवर्क एक “फुल हाउस डीप क्लीनिंग” सर्विस प्रोवाइडर है हो डेल्ही के घरों में अपनी सेवाएं प्रदान करते हैं. शगुन अपनी एन्त्रेप्रेंयूरल जर्नी के विषय में बात करती हैं. उन्होंने काफी चुनौतियों का सामना किया और(…)

More

हम कब महिलाओं के सही गुणों को महत्वव देना शुरू करेंगे?

हमारे समाज में, महिलाओं को उनकी सुंदरता के लिए सरहाया जाता है और यदि वह सुंदरता के सामाजिक मानकों को नही मिल पाती तो आसानी से स्वीकार नही किया जाता. कुछ मामलों में, महिलाओं की सुंदरता ही उनका जीवन में आगे बढ़ने का या असफलता का कारण बन जाती है. शीदपीपल.टीवी ने अनेक महिलाओं से(…)

More

भारत की कोकिला : सरोजिनी नायडू

जब हमें भारत की स्वतंत्रता सेनानी की बात करते हैं, ऐसे बहुत ही कम नाम है जिनको याद किया जाता है. महात्मा गाँधी, जवाहरलाल नेहरू और भगत सिंह. ऐसे कई और नाम भी हैं. हो सकता है उनपर कोई फिल्म ना बनी हो पर भारत को स्वतंत्र बनाने में उनका योगदान महत्वपुर्ण है. सरोजिनी नायडू(…)

More

वंडरफुल वर्ल्ड की फाउंडर शिबानी विग हुई एक सोलो बस ट्रिप से प्रभावित

“जब भी मैं घर से समर कैंप के लिए निकलती थी, मुझे अपने माता-पिता के साथ बहार जाने का अनुभव महसूस होता था”, कहा वंडरफुल वर्ल्ड की फाउंडर शिबानी विग ने. दिल्ली में स्थित शिबानी एक फोजी की पुत्री हैं. इसी कारण वह देश के विभिन्न भागों में रही हुई हैं. उनके इस अनुभव ने(…)

More

आइए मिलते हैं बाँदा की महिला कन्डक्टर गायत्री गुप्ता से

जिला बांदा, कस्बा बांदा आज के बदलत जमाना मा मेहरिया हर क्षेत्र मा काम करत हैं। मनसवा के या समाज मा मेहरिया सबै जघा आपन काम करै के कोशिश करत हैं। यहिनतान का काम कइ देखाइस है, गायत्री गुप्ता बस मा कंडेक्टर का शुरु करिस हवैं। आइए मिलते हैं बाँदा की महिला कन्डक्टर गायत्री गुप्ता(…)

More

इरा त्रिवेदी : योग ने मुझे एक लेखिका बनने में की मदद

इरा त्रिवेदी भारत की सबसे लोकप्रिय लेखकों में से एक है. मुझे इनके द्वारा लिखी गयी किताबों से लगाव होना तब शुरू हुआ जब मैंने ” देयर इस नो लव न वाल स्ट्रीट” पढ़ी. यह किताब एक ऐसी महिला के बारें में है जिससे बता चलता है की इन्वेस्टमेंट बैंकिंग की दुनिया कितनी झूठी है.(…)

More

निर्मला सीतारमन ने स्टार्टअप्स के लिए टैक्स बेनिफिट्स मिलने की ओर इशारा किया

निर्मला सीतारमन, कॉमर्स एंड इंडस्ट्री मिनिस्टर, ने कहा की स्टार्टअप्स को आने वाले बजट में एडिशनल टैक्स बेनिफिट्स मिलने की सम्भावना है. अडिशनल टैक्स बेनिफिट्स से स्टार्टअप्स को बहुत सहायता मिल जाती है. कुछ काम हो गया है और बाकी होने की उम्मीद है. देखते हैं यह बजट हमें क्या देता है. सीतारमन स्टार्टअप इंडिया(…)

More

पाँच महिलाओं से जानिए उनकी पसंदीदा नारीवादी किताबें

किताबें मनुष्य के जीवन का एक बहुत ही महत्वपूण हिस्सा हैं. एक अछि किताब पढ़ना बहुत ज़रूरी है क्योंकि वह हमें बौद्धिक बनाती हैं और हमारी मूर्खता को दूर करती हैं. मुझे याद है जब मैंने स्कूल के समय जेन आयर पढ़ने के लिए उठायी थी. मुझे वह किताब मेरे दोस्त ने मेरे जन्मदिन पर दी(…)

More

Share Your Stories:

Discussions

Blogs

Events