About the Video

जिला अम्बेडकरनगर, ब्लाक भीटी, पांडे पैकौली हियां के मनइन कै शिकायत बाय कि मनरेगा के तहत काम तौ आय लकिन काम नाय मिलत बाय।खास कइके मनइन का काम दिया ही नाय गए।

अनारकली कै कहब बाय कि जबसे नया प्रधान आये तबसे काम नाय मिला। पिछले प्रधानी मा कुछ दिन काम करे रहेन। कमलेश कै कहब बाय कि चार पाच साल होइगा हमैं काम नाय मिला। काम मांगत रहेन तौ दियत नाय रहे।झौली लइके वापस आय जात रहेन।विद्या कै कहब बाय कि पुरानी प्रधानी मा काम चलत रहा लकिन मिला नाय।

राजमणि प्रधान प्रतिनिधि कै कहब बाय कि नरेगा से सम्बंधित काम पिछले वित्तीय वर्ष मा कराये गए काम कै फ़ाइल ब्लाक पै जाय चुकी बाय। वकै कुछ कै भुगतान अबहीं तक बाकी बाय। कुछ होय चुका बाय। नई कार्ययोजना चढ़ाय के ब्लाक पै भेजा जाय चुका बाय। नाला खुदाई कै काम चलत रहा लकिन ऊ विवादित रहा जेसे एस डीएम से सुलह करवाय के नाला के खुदाई कै काम चलत बाय। वका भी कार्य योजना के तहत लिया गा बाय।
पिछले सत्र मा चालिस-पचास मेहरारू काम करे रहिन। एहि सत्र मा काम नाय भा बाय। जवन मेहरारू काम नाय करै चहतिन। सिर्फ अफवाह उड़ावे चाहाथिन। उनका कुछ न करै का परै। उनके खाता मा पैसा भेज दिया जाय।ई ससंभव नाय बाय। 20 का खुली बैठक बाय वही मा नया प्रस्ताव तय कीन जाये।

रिपोर्टर- संगीता अउर प्रियंका

अम्बेडकर नगर के पांडेय पैकोला के प्रधान जी – ये कैसी बात है?

जिला अम्बेडकरनगर, ब्लाक भीटी, पांडे पैकौली हियां के मनइन कै शिकायत बाय कि मनरेगा के तहत काम तौ आय लकिन काम नाय मिलत बाय।खास कइके मनइन का काम दिया ही नाय गए। अनारकली कै कहब बाय कि जबसे नया प्रधान आये तबसे काम नाय मिला। पिछले प्रधानी मा कुछ दिन काम करे रहेन। कमलेश कै(…)

About STP Team

o

Posts by STP Team:

पब्लिक स्पीकिंग में निपुण होने के 7 तरीके

पब्लिक स्पीकिंग करना एक आसान कार्य नहीं है. प्रत्येक मनुष्य को इसमें शुरुआत में थोड़ी सा संकोच अवश्य होता है. परंतु पब्लिक स्पीकिंग अपने बोलने के कौशल को बेहतर बनाने का एक बहुत अच्छा अवसर होता है . यहां कुछ ऐसे सुझाव दिए गए हैं जो आपको पब्लिक स्पीकिंग से होने वाली घबराहट को दूर(…)

More

परेश रावल के अरुंधति रॉय पर किए गए ट्वीट पर सिलेब्रिटीज ने व्यक्त करे अपने विचार

आजकल ट्विटर एक ऐसा जंग का मैदान बन गया है जहाँ कोई भी राष्ट्रवाद बहस छेड़ देता है. रविवार को परेश रावल ने एक ऐसा ट्वीट किया जिससे सोशल मीडिया चौंक गया. फिल्म अभिनेता परेश रावल ने ट्वीट कर कहा था कि “पत्थरबाज़ को आर्मी की जीप से बांधने के बजाय अरुंधती राय को बांधना(…)

More

अम्बेडकर नगर के पांडेय पैकोला के प्रधान जी – ये कैसी बात है?

जिला अम्बेडकरनगर, ब्लाक भीटी, पांडे पैकौली हियां के मनइन कै शिकायत बाय कि मनरेगा के तहत काम तौ आय लकिन काम नाय मिलत बाय।खास कइके मनइन का काम दिया ही नाय गए। अनारकली कै कहब बाय कि जबसे नया प्रधान आये तबसे काम नाय मिला। पिछले प्रधानी मा कुछ दिन काम करे रहेन। कमलेश कै(…)

More

दुर्व्यवहार के कारण लड़कियों की तालीम हुई एक बार फिर शिकार

हमारे देश की 52% लड़कियों का भविष्य इसलिए अंधकार में है क्योंकि वह पढ़ नहीं पाती। इसका सबसे बड़ा कारण है लड़कियों के साथ छेड़खानी, जबरदस्ती, बलात्कार और उनके साथ यौनाचार जैसी घटनाओं का होना। इन घटनाओं से निपटने की बजाय, हमारा समाज ऐसी घटनाओं के बाद सबसे पहले लड़की का पढ़ना लिखना बंद कर(…)

More

शहरी स्वंत्र महिला के लिए क्यों नहीं है अब शादी ज़रूरी?

यदि आप मुझसे पूछे, तो मैं आपको शादी न करने के बहुत सारे कारण दे सकती हूँ. और वो इसलिए क्योंकि हम स्वयं को सशक्त बनाना चाहते हैं. कुछ समय पहले, महिलाएँ अपनी आकांशाओं का बलिदान देती थी ताकि वह उस “प्रिंस चार्मिंग” से शादी कर सके जिसका इंतज़ार उन्होंने जीवन भर किया था. परन्तु(…)

More

महिलाओं के लिए स्वस्थ रहना क्यों है अनिवार्य?

महिलाओं ने, सदियों से, अपने स्वास्थ्य को नज़रअंदाज़ किया है. वैसे तोह आज कल की महिलाएँ अपनी सेहत का ध्यान रखने में विश्वास रखती हैं परन्तु ऐसी बहुत सी महिलाएँ हैं जो अपनी सेहत पर ठीक से ध्यान नहीं देती. वह अपनी शक्ति अपने आस पास के लोगों का ख्याल रखने में लगा देती हैं.(…)

More

मिलिए पल्लवी सिंह से जो विदेशियों को हिंदी सिखाती हैं

मुंबई की रहने वे पल्लवी सिंह भारत में रहने वाले विदेशियों को हिंदी सिखाती है. उन्होंने शीदपीपल.टीवी से हिंदी में अपनी रूचि और पढ़ाने की टेक्निक्स के विषय में बात करी. पल्लवी ने इंजीनियरिंग और स्यकॉलॉजि में बैचलर्स करी हुई है. “मेरे पास फ्रेंच भाषा में डिप्लोमा और काउन्सलिंग एंड गाइडेंस में सर्टिफिकेट कोर्स भी(…)

More

राहुल बोस की पूर्णा देखने के ५ महत्त्वपूर्ण कारण

पूर्णा सिनेमा घरों में ३१ मार्च को रिलीज़ हुई थी. इस फिल्म की बहुत प्रशंसा हो रही है. इसने एक पूरी पीढ़ी को जीवन में कुछ कर दिखने की प्रेरणा मिली है. यह जानकर अच्छा लगता हैं कि बॉलीवुड ने ऐसी फिल्में बनाना शुरू कर दिया हैं जो भारत में बदलाव ला सकती हैं. जानिए(…)

More

अकेले फिल्म देखने का अपना ही मज़ा है: शुभ्रा गुप्ता

शीदपीपल.टीवी ने शुभ्रा गुप्ता से अकेले फिल्म देखने जाने के विषय में बात करी.उन्होंने इस ट्रेंड का समर्थन करते हुए कहा,” आप फिल्म अकेले देखते हैं तो आपके और फिल्म के बीच कुछ भी नही होता. मेरे अनुसार यदि महिलाएं स्वयं फिल्में देखने जा सके तो इससे ज़्यादा स्वंत्रता हो ही नही सकती.” अकेले फिल्म(…)

More

वीमेनस राइटर्स फेस्ट: भारतीय महिलाओं को वर्कफोर्स में वापस लाने के सुझाव.

भारतीय महिलाएँ कहाँ गयी हैं? हमने अक्सर यह प्रश्न खुद से पूछा है और इसके कारण जानने की भी कोशिश की है. शीदपीपल.टीवी और वेदिका स्कॉलर्स द्वारा आयोजित वीमेन राइटर्स फेस्ट ने इसी बात पर चर्चा करी. ” हम भारतीय महिलाएँ विश्व जनसँख्या की केवल ८% हैं. हम भारत का जीडीपी तब तक नही बदल(…)

More

नीना लेखी ने लिखी अपने बिज़नेस के विषय में किताब

नीना लेखी एक इंटरप्रेन्योर तब बनी जब इंटरप्रेन्योर जैसे शब्द फैशन में भी नही थे. नीना ने बैगईट नाम का पहला बैग एंटरप्राइज शुरू किया. बैग्स सौ करने से लेकर, बैग्स पेंट करने तक, नीना सब कुछ खुद करना चाहती थी. नीना लेखी एक इंटरप्रेन्योर तब बनी जब इंटरप्रेन्योर जैसे शब्द फैशन में भी नही(…)

More

“कॉफी विद करण” पर करण को उनकी गलतियों का एहसास कराती दिखाई दी कंगना

कंगना रनौत हाली में कारन जौहर के टॉक शो “कॉफी विद करण” में नज़र आयी जहाँ उन्होनें अपनी बात कहना का और करण जोहर को अपनी गलतियों का एहसास दिलवाने का कोई अवसर नही छोड़ा. कंगना इस शो पर सैफ अली खान के साथ अपनी फिल्म रंगून की प्रमोशन करने आयी थी. उन्होनें करण जोहर(…)

More

Share Your Stories:

Discussions

Blogs

Events