About the Video

नीना लेखी एक इंटरप्रेन्योर तब बनी जब इंटरप्रेन्योर जैसे शब्द फैशन में भी नही थे. नीना ने बैगईट नाम का पहला बैग एंटरप्राइज शुरू किया. बैग्स सौ करने से लेकर, बैग्स पेंट करने तक, नीना सब कुछ खुद करना चाहती थी.

नीना लेखी एक इंटरप्रेन्योर तब बनी जब इंटरप्रेन्योर जैसे शब्द फैशन में भी नही थे

उन्होंने हाली में एक किताब लिखी है जिसका नाम है ,” बैग ईट आल”. शीदपीपल.टीवी की तारा खंडेलवाल ने उनसे उनकी किताब, उनकी जर्नी और उनकी चुनौतियों के विषय में बात करी.

नीना लेखी एक इंटरप्रेन्योर तब बनी जब इंटरप्रेन्योर जैसे शब्द फैशन में भी नही थे. नीना ने बैगईट नाम का पहला बैग एंटरप्राइज शुरू किया. बैग्स सौ करने से लेकर, बैग्स पेंट करने तक, नीना सब कुछ खुद करना चाहती थी.

“मैं अपने कॉलेज के पहले ही साल में फ़ैल हो गयी थी. ऐसा नही था कि मैं कुछ बहुत मुश्किल कर रही थी. अगर मैं एक इंटरप्रेन्योर बन सकती हूँ तो कोई भी बन सकता है. पर ऐसी बहुत साड़ी चीज़ें थी जिन्होंने मेरी मदद करी जैसे खुद को ट्रैन करना, अपने सपनो पर विश्वास करना और निरंतर उनकी तरफ आगे बढ़ना.”

“कॉलेज के पहले साल में असफल होने के बाद मैंने एक प्रिंटिंग कोर्स किया. अब मुझे बैग्स पर प्रिंटिंग करने का सुझाव आया. चुनौती यह थी के मेरे परिवार में आजतक किसी महिला ने इससे पहले बिज़नस नही किया था. मेरे माता पिता इस आईडिया को सुनकर ज़्यादा खुश नही थे. बैग्स खरीदने के लिए मेरी मुम्मी मेरे साथ आती थी.”

अपने काम और जीवन में संतुलन बनाये रखने के विषय में उन्होंने कहा कि उनके परिवार ने उनकी हिम्मत बड़ाई है. यदि वो प्रत्येक कदम पर मेरे साथ न होते तो मेरे लिए शाद्दी के बाद काम करना बहुत मुश्किल हो जाता.

 

नीना लेखी ने लिखी अपने बिज़नेस के विषय में किताब

नीना लेखी एक इंटरप्रेन्योर तब बनी जब इंटरप्रेन्योर जैसे शब्द फैशन में भी नही थे. नीना ने बैगईट नाम का पहला बैग एंटरप्राइज शुरू किया. बैग्स सौ करने से लेकर, बैग्स पेंट करने तक, नीना सब कुछ खुद करना चाहती थी. नीना लेखी एक इंटरप्रेन्योर तब बनी जब इंटरप्रेन्योर जैसे शब्द फैशन में भी नही(…)

  • सोशियल बज़्ज़ - चेक इट आउट!!

टॉप स्टोरीस

See more

नीना लेखी ने लिखी अपने बिज़नेस के विषय में किताब

नीना लेखी एक इंटरप्रेन्योर तब बनी जब इंटरप्रेन्योर जैसे शब्द फैशन में भी नही थे. नीना ने बैगईट नाम का पहला बैग एंटरप्राइज शुरू किया. बैग्स सौ करने से लेकर, बैग्स पेंट करने तक, नीना सब कुछ खुद करना चाहती थी. नीना लेखी एक इंटरप्रेन्योर तब बनी जब इंटरप्रेन्योर जैसे शब्द फैशन में भी नही(…)

More

“कॉफी विद करण” पर करण को उनकी गलतियों का एहसास कराती दिखाई दी कंगना

“कॉफी विद करण” पर करण को उनकी गलतियों का एहसास कराती दिखाई दी कंगना

कंगना रनौत हाली में कारन जौहर के टॉक शो “कॉफी विद करण” में नज़र आयी जहाँ उन्होनें अपनी बात कहना का और करण जोहर को अपनी गलतियों का एहसास दिलवाने का कोई अवसर नही छोड़ा. कंगना इस शो पर सैफ अली खान के साथ अपनी फिल्म रंगून की प्रमोशन करने आयी थी. उन्होनें करण जोहर(…)

More

जानिए किस प्रकार एक घर सहायक से प्रेरित हुई एक महिला उद्यमी

जानिए किस प्रकार एक घर सहायक से प्रेरित हुई एक महिला उद्यमी

शगुन सिंह बरुहा अपने घर पर काम करने वाली सहायक  को अपने स्टार्टअप “होमवर्क” के लिए श्रेय देती हैं. होमवर्क एक “फुल हाउस डीप क्लीनिंग” सर्विस प्रोवाइडर है हो डेल्ही के घरों में अपनी सेवाएं प्रदान करते हैं. शगुन अपनी एन्त्रेप्रेंयूरल जर्नी के विषय में बात करती हैं. उन्होंने काफी चुनौतियों का सामना किया और(…)

More

हम कब महिलाओं के सही गुणों को महत्वव देना शुरू करेंगे?

हम कब महिलाओं के सही गुणों को महत्वव देना शुरू करेंगे?

हमारे समाज में, महिलाओं को उनकी सुंदरता के लिए सरहाया जाता है और यदि वह सुंदरता के सामाजिक मानकों को नही मिल पाती तो आसानी से स्वीकार नही किया जाता. कुछ मामलों में, महिलाओं की सुंदरता ही उनका जीवन में आगे बढ़ने का या असफलता का कारण बन जाती है. शीदपीपल.टीवी ने अनेक महिलाओं से(…)

More

भारत की कोकिला : सरोजिनी नायडू

जब हमें भारत की स्वतंत्रता सेनानी की बात करते हैं, ऐसे बहुत ही कम नाम है जिनको याद किया जाता है. महात्मा गाँधी, जवाहरलाल नेहरू और भगत सिंह. ऐसे कई और नाम भी हैं. हो सकता है उनपर कोई फिल्म ना बनी हो पर भारत को स्वतंत्र बनाने में उनका योगदान महत्वपुर्ण है. सरोजिनी नायडू(…)

More

वंडरफुल वर्ल्ड की फाउंडर शिबानी विग हुई एक सोलो बस ट्रिप से प्रभावित

वंडरफुल वर्ल्ड की फाउंडर शिबानी विग हुई एक सोलो बस ट्रिप से प्रभावित

“जब भी मैं घर से समर कैंप के लिए निकलती थी, मुझे अपने माता-पिता के साथ बहार जाने का अनुभव महसूस होता था”, कहा वंडरफुल वर्ल्ड की फाउंडर शिबानी विग ने. दिल्ली में स्थित शिबानी एक फोजी की पुत्री हैं. इसी कारण वह देश के विभिन्न भागों में रही हुई हैं. उनके इस अनुभव ने(…)

More

Share Your Stories:

Discussions

Blogs

Events